फिल्मी चक्कर

अद्भुत गायिका Usha Uthup के पति का निधन

भारतीय संगीत की दुनिया में Usha Uthup का नाम किसी परिचय का मोहताज नहीं है। उनकी अनोखी आवाज और प्रभावशाली व्यक्तित्व ने उन्हें एक पॉप आइकन बना दिया है। हाल ही में आई खबर ने उनके प्रशंसकों को स्तब्ध कर दिया जब यह पता चला कि उनके पति, जानी चाको उत्थुप, का निधन हो गया। इस लेख में हम ऊषा उत्थुप के जीवन, उनके करियर, और उनके पति जानी चाको के साथ उनकी यात्रा पर विस्तार से चर्चा करेंगे।

जानी चाको उत्थुप का निधन:

जानी चाको उत्थुप का निधन 78 वर्ष की उम्र में कोलकाता में हुआ। जानी टीवी देख रहे थे जब उन्हें अचानक बेचैनी महसूस हुई और उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। जानी चाको ऊषा उत्थुप के दूसरे पति थे और वे चाय बागान क्षेत्र से जुड़े हुए थे। उनका निधन दिल का दौरा पड़ने से हुआ। जानी अपने पीछे बेटे सनी और बेटी अंजलि को छोड़ गए हैं। उनकी बेटी अंजलि ने सोशल मीडिया पर अपने पिता की तस्वीर लगाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी और लिखा, “अप्पा…बहुत जल्दी चले गए। लेकिन आपने जिस तरह से जिया, वह उतना ही स्टाइलिश था। दुनिया के सबसे हैंडसम आदमी, हम आपसे प्यार करते हैं।”

Usha Uthup का करियर:

ऊषा उत्थुप का संगीत करियर बहुत ही प्रभावशाली रहा है। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत 1960 के दशक में की थी और तब से अब तक उन्होंने कई हिट गाने दिए हैं। उनके गाने न केवल बॉलीवुड में बल्कि पूरे भारत में और अन्य भाषाओं में भी लोकप्रिय हैं। ऊषा का पहला बड़ा ब्रेक मिला था जब उन्होंने 1969 में मुम्बई के एक नाइट क्लब में गाना गाया। इसके बाद उन्हें कई फिल्मों में गाने का मौका मिला और उन्होंने अपनी अनोखी आवाज से लोगों का दिल जीत लिया।

प्रसिद्ध गाने:

ऊषा उत्थुप के गानों की सूची बहुत लंबी है। उनके कुछ सबसे प्रसिद्ध गाने हैं:

  • “हरे रामा हरे कृष्णा” (1971)
  • “वन टू चा चा” (1971)
  • “डार्लिंग” (2010)
  • “हरी ओम हरी” (1980)
  • “दोस्तों से प्यार किया” (1980)

इन गानों ने उन्हें एक स्टार बना दिया और उनकी आवाज की पहचान बन गई। उनकी गायकी की खासियत यह है कि वे कई भाषाओं में गा सकती हैं, जिसमें हिंदी, बंगाली, तमिल, तेलुगू, गुजराती, मराठी, और अन्य भारतीय भाषाएं शामिल हैं।

व्यक्तिगत जीवन:

Usha Uthup का निजी जीवन भी उनके करियर की तरह ही रोचक है। जानी चाको उनके जीवनसाथी रहे और उन्होंने ऊषा के करियर में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। जानी एक शांत स्वभाव के व्यक्ति थे और उन्होंने हमेशा ऊषा को समर्थन और प्रोत्साहन दिया। ऊषा और जानी की शादी को कई साल हो चुके थे और दोनों का जीवन सुखद रहा।

ऊषा के अनुसार, जानी न केवल एक अच्छे पति थे बल्कि एक बेहतरीन दोस्त भी थे। उनके निधन से ऊषा को गहरा आघात लगा है। उनकी बेटी अंजलि और बेटा सनी भी अपने पिता के जाने से बेहद दुखी हैं।

सम्मान और पुरस्कार:

ऊषा उत्थुप को उनके संगीत के लिए कई पुरस्कारों से नवाजा गया है। इसी साल अप्रैल में उन्हें पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उन्होंने एएनआई से बात करते हुए कहा था, “मैं बहुत-बहुत खुश हूं और मेरी आंखों से आंसू छलक रहे है। मेरी लाइफ का ये बहुत बड़ा पल है। इससे ज्यादा और क्या चाहिए।” यह पुरस्कार उनके करियर की उत्कृष्टता का प्रतीक है और उनके योगदान को सराहना देता है।

ऊषा उत्थुप का जीवन और करियर प्रेरणादायक है। उनके गाने आज भी युवाओं के बीच पॉपुलर हैं और उनकी आवाज की खासियत ने उन्हें एक अद्वितीय स्थान दिलाया है। जानी चाको उत्थुप के निधन से उनके परिवार और प्रशंसकों को गहरा दुख पहुंचा है, लेकिन उनकी यादें हमेशा जीवित रहेंगी। ऊषा उत्थुप की संगीत यात्रा हमें यह सिखाती है कि समर्पण, मेहनत और प्यार से किसी भी मंजिल को पाया जा सकता है। उनकी आवाज और उनके गाने हमेशा हमें याद दिलाते रहेंगे कि संगीत का असली मतलब क्या होता है।

News-Desk

निष्पक्ष NEWS.जो मुख्यतः मेन स्ट्रीम MEDIA का हिस्सा नहीं बन पाती हैं। हमारा लक्ष्य न्यूज़ को निष्पक्षता और सटीकता से प्रस्तुत करना है, ताकि पाठकों को विश्वासनीय और सटीक समाचार मिल सके। किसी भी मुद्दे के मामले में कृपया हमें लिखें - [email protected]

News-Desk has 15667 posts and counting. See all posts by News-Desk

Avatar Of News-Desk

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one + 10 =