वैश्विक

सभी परीक्षा केंद्रों पर मुफ्त sanitary pads उपलब्ध कराने का निर्देश

मासिक धर्म एक प्राकृतिक प्रक्रिया है जो हर लड़की के जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा है। हालांकि, मासिक धर्म के दौरान किशोरियों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है, जिसमें स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के साथ-साथ सामाजिक और शैक्षिक समस्याएं भी शामिल हैं।

मासिक धर्म के दौरान कई किशोरियों को शारीरिक और मानसिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। दर्द, कमजोरी, चिड़चिड़ापन, और मानसिक तनाव जैसी समस्याएं आम होती हैं। इसके अलावा, मासिक धर्म के दौरान स्वच्छता की कमी के कारण संक्रमण का खतरा भी बढ़ जाता है। इन समस्याओं के कारण किशोरियों की शिक्षा और उनका सामान्य जीवन प्रभावित होता है।

शिक्षा मंत्रालय की पहल

केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने इस दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है। मंत्रालय ने कक्षा 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं के दौरान मासिक धर्म स्वच्छता प्रबंधन के उपाय सुनिश्चित करने के लिए स्कूलों को परामर्श जारी किया है। इस परामर्श में सभी परीक्षा केंद्रों पर मुफ्त sanitary pads उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है ताकि किशोरियों को किसी प्रकार की परेशानी न हो और उनका स्वास्थ्य बेहतर रहे। इसके साथ ही, मासिक धर्म से जुड़ी जरूरतों को पूरा करने के लिए छात्राओं को परीक्षा के दौरान ब्रेक लेने की इजाजत भी दी जाएगी।

सरकार की अन्य पहलें

सरकार ने मासिक धर्म स्वच्छता प्रबंधन के लिए कई अन्य महत्वपूर्ण पहलें भी की हैं। आंगनबाड़ी केंद्रों के जरिए बहुत ही कम दर पर सैनिटरी पैड किशोरियों को उपलब्ध कराए जाते हैं। भीड़भाड़ वाली जगहों जैसे रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट, और बाजारों में भी सैनिटरी पैड वेडिंग मशीनें लगाई गई हैं। स्कूलों में सैनिटरी पैड उपलब्ध कराने का उद्देश्य किशोरियों के ड्रॉप आउट की दर को कम करना है, ताकि वे बिना किसी रुकावट के अपनी शिक्षा पूरी कर सकें।

जागरूकता कार्यक्रम

मंत्रालय ने स्कूलों को मासिक धर्म स्वास्थ्य और स्वच्छता के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए शैक्षणिक कार्यक्रम शुरू करने का भी निर्देश दिया है। इन कार्यक्रमों के जरिए छात्राओं को मासिक धर्म से संबंधित सही जानकारी दी जाएगी और उन्हें स्वच्छता बनाए रखने के तरीके sanitary pads बताए जाएंगे।

मासिक धर्म स्वच्छता प्रबंधन के लिए सरकार की यह पहल एक सराहनीय कदम है। इससे न केवल किशोरियों का स्वास्थ्य बेहतर होगा, बल्कि उनकी शिक्षा पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। हमें उम्मीद है कि इस पहल से समाज में मासिक धर्म से जुड़े मिथकों और गलतफहमियों को दूर करने में भी मदद मिलेगी और किशोरियों को एक स्वस्थ और सुरक्षित वातावरण मिलेगा जिसमें वे बिना किसी रुकावट के अपनी शिक्षा जारी रख सकेंगी।

News-Desk

निष्पक्ष NEWS.जो मुख्यतः मेन स्ट्रीम MEDIA का हिस्सा नहीं बन पाती हैं। हमारा लक्ष्य न्यूज़ को निष्पक्षता और सटीकता से प्रस्तुत करना है, ताकि पाठकों को विश्वासनीय और सटीक समाचार मिल सके। किसी भी मुद्दे के मामले में कृपया हमें लिखें - [email protected]

News-Desk has 15667 posts and counting. See all posts by News-Desk

Avatar Of News-Desk

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × five =