वैश्विक

क्या सैलरी बिना काम के भी संभव है? France का एक अजीब मामला

France की एक महिला ने ऑरेंज पर हैरान कर देने वाला मुकदमा दायर किया है, जिसमें उन्होंने कंपनी को आरोप लगाया है कि उसे काम नहीं दिया गया था, लेकिन कंपनी ने उसे सैलरी देती रही थी। इस मामले में एक अजीबोगरीब मोड़ आया है, जो हमें सोचने पर मजबूर करता है कि कैसे किसी को बिना काम किए सैलरी मिल सकती है।

सैलरी का इंतजार हर किसी को होता है. काम करने के बाद महीने के अंत में जब सैलरी आती है तो लोग काम का सारा स्ट्रेस भूल जाते हैं. लेकिन ऐसा कोई नहीं होगा जिसकी चाहत बिना काम के सैलरी लेना हो. हालांकि इस तरह का एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है. एक फ्रांसीसी महिला ने दूरसंचार दिग्गज कंपनी ऑरेंज पर हैरान कर देने वाला मुकदमा दायर किया है.

दरअसल महिला ने कंपनी पर आरोप लगाया कि कंपनी ने उसे कोई काम नहीं दिया. इस दौरान कंपनी उसे सैलरी देती रही. लॉरेंस वैन वासेनहोवे का दावा है कि विकलांगता के कारण ट्रांसफर का अनुरोध करने के बाद कंपनी ने उसे प्रभावी रूप से किसी भी प्लान में शामिल करना बंद कर दिया.

आंशिक पक्षाघात और मिर्गी से पीड़ित वासेनहोवे को कथित तौर पर 1993 में ऑरेंज के पूर्ववर्ती फ्रांस टेलीकॉम द्वारा काम पर रखा गया था. वह आंशिक रूप से लकवाग्रस्त हैं. शुरुआत में, उन्होंने अपनी सीमाओं के अनुरूप भूमिकाएं निभाईं, सचिव और मानव संसाधन के रूप में काम किया. हालांकि, 2002 में, उन्होंने फ्रांस के भीतर एक अलग क्षेत्र में ट्रांसफर का अनुरोध किया.

वैन वासेनहोवे के वकीलों के अनुसार, उनके ट्रांसफर अनुरोध को मंजूरी दे दी गई थी. लेकिन नया कार्यस्थल उनकी ज़रूरतों के हिसाब से नहीं बनाया गया था. हालांकि, एक उपयुक्त विकल्प देने के बजाय, ऑरेंज ने कथित तौर पर उन्हें कोई भी काम सौंपना बंद कर दिया.

अगले दो दशकों तक अपना पूरा वेतन पाने के बावजूद, वैन वासेनहोवे का दावा है कि इस स्थिति के कारण उन्हें “नैतिक उत्पीड़न” का सामना करना पड़ा. उनका तर्क है कि बिना किसी कार्य कर्तव्यों के भुगतान किए जाने के कारण उन्हें अलग-थलग कर दिया गया और पेशेवर उद्देश्य खो दिया गया.

यह मामला लॉरेंस वैन वासेनहोवे के उस सफर की याद दिलाता है, जिसने उन्हें किसी नैतिक दुख का सामना करना पड़ा। उन्होंने विकलांगता के कारण ट्रांसफर का अनुरोध किया था, लेकिन कंपनी ने उन्हें कोई काम नहीं दिया और उन्हें अलग-थलग कर दिया। उन्होंने कहा कि इससे उन्हें “नैतिक उत्पीड़न” का सामना करना पड़ा।

यह मामला हमें यह दिखाता है कि कई बार हम दूसरों की भावनाओं को नजरअंदाज़ कर देते हैं और उन्हें नैतिक या मानवीय दुख का सामना करना पड़ता है। यह भी एक सिखाने वाला सबक है कि हमें हमेशा उस व्यक्ति की भावनाओं और ज़रूरतों का ध्यान रखना चाहिए, जो हमारे साथ काम कर रहा है।

यह मामला आम लोगों के लिए भी एक सबक है कि हमें हमेशा अपने कर्तव्यों को पूरा करने के साथ-साथ दूसरों की भावनाओं का भी ख्याल रखना चाहिए। यह एक अच्छा याददाश्त दिलाता है कि सच्चाई और ईमानदारी हमेशा उचित होती है, चाहे वो किसी भी स्थिति में हो।

News-Desk

निष्पक्ष NEWS.जो मुख्यतः मेन स्ट्रीम MEDIA का हिस्सा नहीं बन पाती हैं। हमारा लक्ष्य न्यूज़ को निष्पक्षता और सटीकता से प्रस्तुत करना है, ताकि पाठकों को विश्वासनीय और सटीक समाचार मिल सके। किसी भी मुद्दे के मामले में कृपया हमें लिखें - [email protected]

News-Desk has 15667 posts and counting. See all posts by News-Desk

Avatar Of News-Desk

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × 2 =