उत्तर प्रदेश

Uttar Pradesh Urdu Academy की देखरेख में निशुल्क उर्दू की पढ़ाई कराई, जिया उलूम स्कूल में ३५ बच्चों ने दी परीक्षा

Uttar Pradesh Urdu Academy की देखरेख में निशुल्क उर्दू शिक्षण केंद्र जिया उलूम स्कूल में ह्यूमेनिटी वेलफेयर सोसायटी संस्था की ओर से उर्दू का कोर्स पूरा करने वाले ३५ बच्चों की परीक्षा कराई गई। बाद में बच्चों को सर्टिफिकेट भी दिए जाएंगे। इस अवसर पर माज अख्तर अहसान सुप्रिटेंडेंट उर्दू एकेडमी उत्तर प्रदेश ने बताया कि उत्तर प्रदेश उर्दू अकादमी एक सरकारी संस्था है, जो सरकार द्वारा वित्त पोषित है।

उर्दू अकादमी का काम उर्दू भाषा का प्रचार प्रसार करना है और जो बच्चे उर्दू सीखना चाहते हैं, उन्हें निशुल्क उर्दू सिखाई जाती है, ये कोर्स करने के लिए १६ साल से ऊपर किसी भी उम्र के लोग कर सकते हैं ,ये एक साल का होता है, इस कोर्स को कक्षा आठ के बराबर माना जाता है। इसके बाद बच्चे आगे की पढ़ाई भी कर सकते हैं, जिसका फायदा उन्हें नौकरी में भी मिलता है। उन्होंने बताया कि शाम को एक घंटे के लिए उर्दू कोचिंग स्कूल चलाये जाते हैं और जिन बच्चों को बिल्कुल भी उर्दू नहीं आती है उन्हें उर्दू सिखाई जाती है। पूरे सूबे में उर्दू अकादमी ७० कोचिंग स्कूल मुफ्त चला रही है।

मुजफ्फरनगर में ये अकेला उर्दू कोजिंग सेंटर है एकेडमी की तरफ से जो ह्यूमैनिटी वेलफेयर सोसाइटी को मिला है,इस बार जिया उलूम स्कूल में ह्यूमेनिटी वेलफेयर सोसायटी संस्था के सहयोग से ३५ बच्चों की परीक्षा कराई गई है। बच्चों को सर्टिफिकेट भी दिए जाएंगे, आज के कार्यक्रम में मुख्य अतिथि प्रमुख समाजसेवी मनीष चौधरी ने निरीक्षण कर सभी बच्चों को आशीर्वाद दिया। कार्यक्रम में बोलते हुए मुख्य अतिथि सर्व समाज संस्था के अध्यक्ष प्रमुख समाजसेवी मनीष चौधरी ने कहा कि आज उर्दू अकादमी उत्तर प्रदेश की ओर से जिया उलूम स्कूल में ह्यूमेनिटी वेलफेयर सोसायटी संस्था के सहयोग से परीक्षा कराई गई, जिन बच्चों ने एक साल तक उर्दू सीखी है, अब आगे चलकर बच्चे अपनी पढ़ाई को जारी रख सकते हैं और नौकरी में भी लाभ ले सकते हैं।

उन्होंने कहा कि उर्दू की तरह ही बच्चों को संस्कृत भाषा भी सीखनी चाहिए, ताकि अपने धर्मशास्त्रो को पढ़कर ज्ञान अर्जित किया जा सके। उन्होंने प्रदेश सरकार से मांग की है कि जिस तरह से उत्तर प्रदेश उर्दू अकादमी की स्थापना कर उर्दू भाषा की निशुल्क पढ़ाई की जा रही है, उसी प्रकार संस्कृत भाषा के प्रचार प्रसार के लिए उत्तर प्रदेश सरकार को संस्कृत अकादमी की स्थापना कर बच्चों को निशुल्क संस्कृत भाषा सिखानी चाहिए

ताकि संस्कृत भाषा सीख कर बच्चे अपने धर्मशास्त्रो को पढ़कर ज्ञान अर्जित कर सके। कार्यक्रम में राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के मेरठ प्रांत संयोजक फैजुररहमान,,ह्यूमैनिटी वेलफेयर सोसाइटी के संस्थापक शावेज अंसारी, व टीचर गोसिया रहमान का भी सहयोग रहा।

News-Desk

निष्पक्ष NEWS.जो मुख्यतः मेन स्ट्रीम MEDIA का हिस्सा नहीं बन पाती हैं। हमारा लक्ष्य न्यूज़ को निष्पक्षता और सटीकता से प्रस्तुत करना है, ताकि पाठकों को विश्वासनीय और सटीक समाचार मिल सके। किसी भी मुद्दे के मामले में कृपया हमें लिखें - [email protected]

News-Desk has 15667 posts and counting. See all posts by News-Desk

Avatar Of News-Desk

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × 3 =