दिल से

Rajiv Gandhi: एक अनछुआ, उदार और साहसी नेता की दिलचस्प कहानी

भारतीय राजनीति ने हमेशा ही रोचक कहानियों से भरपूर रही है, और इसमें से एक है सैम पित्रोदा की Rajiv Gandhi से जुड़ी दिलचस्प कहानी। राहुल गांधी की आगामी भारत जोड़ो न्याय यात्रा के संदर्भ में सैम पित्रोदा ने एक यूट्यूब न्यूज चैनल के साक्षात्कार में इसे साझा किया है।

सैम पित्रोदा ने बताया कि Rajiv Gandhi, भारत के पूर्व प्रधानमंत्री, को भी जमीनी स्तर पर लोगों से मिलने की उत्सुकता थीं। उन्होंने कहा, “मुझे याद है कि एक बार मैं और मेरी पत्नी राजीव गांधी से मिलने गए थे। हमने देखा कि उनके हाथों से खून बह रहा था।”

पित्रोदा ने आगे बताया कि जब उन्होंने राजीव गांधी से इस बारे में उन्होंने पूछा तो, पूर्व प्रधानमंत्री ने बताया, “कम से कम 5,000 लोगों से हाथ मिलाया है। मैं जहां भी गया, मुझे हाथ मिलाना पड़ा।”

यह किसी भी नेता की नरमी और संबद्धता को दर्शाता है जो अपने देशवासियों के साथ सीधे संपर्क में रहने के लिए अपनी ज़िम्मेदारियों को सीधे तौर पर निभाता है। इसके जरिए राजीव गांधी ने दिखाया कि एक नेता किस प्रकार से अपनी जनता के साथ जुड़कर उनकी समस्याओं को समझ सकता है और उनके साथ मिलकर समाधान निकाल सकता है।

इसके अलावा, यह किसी नेता की साहसिकता और समर्पण को भी दिखाता है, जो खुद को आम लोगों के साथ समर्थन में प्रस्तुत करता है। राजीव गांधी की इस दिलचस्प घटना के माध्यम से हम देख सकते हैं कि एक नेता किस प्रकार से अपने लोगों के दुख-दर्द को समझने के लिए सिर्फ अपने दिल को नहीं, बल्कि अपने हाथों को भी खोलता है।

राहुल गांधी की आगामी भारत जोड़ो न्याय यात्रा के संदर्भ में यह किसी ने दिया एक महत्वपूर्ण संदेश है कि राजनीतिक नेताओं को अपने देशवासियों के साथ सशक्त और सीधे संबंध बनाए रखना चाहिए। यह स्थिति सिर्फ एक नेता की व्यक्तिगत बढ़ावा की नहीं, बल्कि एक सशक्त और जनहित में संलग्न राजनीति की आवश्यकता की भी गवाही है।*

*इस ख़ास मुलाकात के माध्यम से हम सीधे रूप से देख सकते हैं कि राजीव गांधी ने कैसे अपनी जनता के साथ सीधे संपर्क में रहकर उनकी समस्याओं को सुना और इसका समाधान निकाला। इससे हमारी राजनीतिक प्रक्रिया में सशक्तिकरण की दिशा में एक पॉजिटिव संकेत मिलता है, जिससे सामाजिक और आर्थिक उत्थान की दिशा में एक नया मोड़ आ सकता है।

आखिर में, सैम पित्रोदा ने इस साक्षात्कार के माध्यम से हमें एक महत्वपूर्ण सबक सिखाते हैं कि नेता अपने देशवासियों के साथ जुड़कर ही नहीं, बल्कि उनकी समस्याओं को समझकर ही सही दिशा में कदम उठा सकता है। यह कहानी हमें एक नेता की सच्चाई, साहस, और नेतृत्व की उच्चता को समझाने में मदद करती है, जिससे हमारे समाज में जनहित में सेवा करने के लिए एक नया प्रेरणा स्रोत मिल सकता है।

राजीव गांधी, भारत के तीसरे प्रधानमंत्री रहे हैं, जिनका जीवन पूरे देश के लिए एक महत्वपूर्ण योगदान रखा गया है। उनका जन्म 20 अगस्त 1944 को हुआ था और उनका पूरा नाम राजीव रत्ने प्रसाद गांधी था।

Rajiv Gandhi का जीवन राजनीति में समर्पित रहा। वह अपने  भाई संजय गांधी की मौत के बाद उनके स्थान पर एक सांसद बने।राजीव गांधी का असली परिवर्तन 1984 में हुआ, जब उनकी माता इंदिरा गांधी की हत्या हो गई और कांग्रेस पार्टी ने उन्हें पार्टी के नेता के रूप में चुना। इसके बाद, उन्होंने प्रधानमंत्री पद की कड़ी मेहनत और समर्पण के साथ सम्बोधन किया।

Rajiv Gandhi ने प्रधानमंत्री शासन के दौरान, वह भारतीय तंत्रज्ञों को एक नई दिशा में ले जाने के लिए और देश के विकास के लिए कई महत्वपूर्ण पहलुओं पर काम किया। उन्होंने बौद्धिक सूचना प्रौद्योगिकी में नए क्षेत्रों की खोज की, और नागरिक उड़ान योजना जैसी कई पहलुओं को सशक्त बनाया।

हालांकि, Rajiv Gandhi के प्रधानमंत्री पद कार्यकाल को आधुनिक और सकारात्मक रूप में देखा जाता है, लेकिन उनकी प्रधानमंत्री बने होने के बाद ही कई विवाद भी उठे।

1987 में, उनके कार्यकाल के दौरान, राजीव गांधी ने श्रीलंका के तमिल निर्वाचन अधिकारीयों को तात्कालिक स्थिति के लिए भारतीय सेना का सहारा लेने का निर्णय लिया, जो उन्हें समझौते का आरोपी बना देने का कारण बना।

Rajiv Gandhi ने 1991 में असमर्थन के चलते एक चुनौतीपूर्ण समय में अपनी जान गवा दी, जब उन्हें तमिल नाडु के राजा में भरपूर समर्थन के बावजूद भी हादसे में हत्या कर दी गई।Rajiv Gandhi एक उदार और समर्थ नेता थे, जिन्होंने अपने जीवन में देश के विकास के लिए अपनी पूरी शक्ति से काम किया। उनकी श्रद्धांजलि के रूप में हम उनकी सदगति की कामना करते हैं।

News Desk

निष्पक्ष NEWS.जो मुख्यतः मेन स्ट्रीम MEDIA का हिस्सा नहीं बन पाती हैं।

News Desk has 14714 posts and counting. See all posts by News Desk

Avatar Of News Desk

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixteen − 15 =