दैनिक राशिफल (Rashifal) 👩और भविष्य: No. 1 Horoscope

दैनिक राशिफल (Rashifal) Horoscope: प्रत्येक राशि का राशिफल चंद्र ग्रह की गणना पर आधारित होता है। राशिफल को निकालते समय पंचांग की गणना और सटीक खगोलीय विवरण का विश्लेषण किया जाता है। वैदिक पूजन के द्वारा दैनिक राशिफल में बारह राशियों का भविष्यफल बताया जाता है।

Read more...

Astro: अंगुलियों के पोरों पर बने चक्र से जानिए अपना भविष्य, 16 रोचक जानकारी

Astro यदि अंगूठे पोरे पर चक्र बना है तो जातक जीवन में कई उपलब्धियां प्राप्त करता है। वह जीवन में कई उल्लेखनीय कार्य भी करता है। ऐसा जातक भाग्यशाली व धनवान होता है। ऐसा जातक ऐश्वर्यवान, प्रभावशाली, दिमागी कार्य में निपुण, उत्तम गुणयुक्त, पिता का सहयोग व धन पाने वाला होता है।

Read more...

ग्रह दोष से मुक्ति और आर्थिक उन्नति के लिए Holi के रंगों से करें ये खास उपाय

ज्योतिष शास्त्र में बताया गया है कि Holi पर्व के दिन व्यक्ति को घर के मुख्य द्वार पर हल्का गुलाल डाल देना चाहिए और दो मुखी दीपक जलाना चाहिए। माना जाता है कि इस उपाय से आर्थिक समस्याएं दूर हो जाती हैं और आय में वृद्धि के मार्ग खुल जाता है। इस उपाय को करने से व्यापार में भी उन्नति होती है।

Read more...

Shani Pradosh Vrat 2023: शनि प्रदोष पर शनि पुष्य योग का महासंयोग

Shani Pradosh Vrat 2023 कहा जाता है कि शनि प्रदोष व्रत रखने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं और सभी दुखों को दूर करके सुख, शांति, समृद्धि प्रदान करते हैं। वहीं जो लोग संतानहीन हैं, उनको विशेषकर शनि प्रदोष व्रत करना चाहिए। भगवान शिव की कृपा से संतान की प्राप्ति होती है।

Read more...

बहुत शुभ योग लेकर आ रही है महाशिवरात्रि (Maha Shivaratri )

शिव पुराण का पाठ और महामृत्युंजय मंत्र या शिव के पंचाक्षर मंत्र ॐ नमः शिवाय का जाप करें।शिव पूजा के बाद गोबर के उपलों की अग्नि जलाकर तिल, चावल और घी की मिश्रित आहुति दें।महाशिवरात्रि (Maha Shivaratri) के दिन रात्रि जागरण का भी विधान है। मान्यता है कि जो भक्त ऐसा करते हैं, उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

Read more...

Vasant Panchami (वसंत पंचमी) कब है? कैसे करें मां सरस्वती की पूजा, शुभ समय, कथा, मंत्र और पूजन विधि

Vasant Panchami (वसंत पंचमी) कथा के अनुसार सृष्टि के प्रारंभिक काल में भगवान विष्णु की आज्ञा से ब्रह्मा जी ने मनुष्य योनि की रचना की, परंतु वह अपनी सर्जना से संतुष्ट नहीं थे, तब उन्होंने विष्णु जी से आज्ञा लेकर अपने कमंडल से जल को पृथ्वी पर छिड़क दिया, जिससे पृथ्वी पर कंपन होने लगा और एक अद्भुत शक्ति के रूप में चतुर्भुजी सुंदर स्त्री प्रकट हुई।

Read more...

Sakat Chauth Vrat 2023: संकष्टी चतुर्थी का पर्व 10 जनवरी को

Sakat Chauth Vrat 2023 पौराणिक शास्त्रों के अनुसार माघ मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को संकष्टी गणेश चतुर्थी कहते हैं। इसी दिन तिल चतुर्थी व्रत भी किया जाता है। माना जाता है कि जो व्यक्ति नियमित रूप से चतुर्थी का व्रत नहीं कर सकते, वो यदि माघी चतुर्थी का व्रत कर लें, तो वर्ष भर की सभी चतुर्थी व्रत का फल प्राप्त इस एक व्रत से मिल जाता है। माघी तिल चतुर्थी पर श्री गणेश के मंदिरों में भक्तों की लंबी भीड़ नजर आती है।

Read more...

15 से बजने लगेगी शहनाई, २१ को मौनी और शनि अमावस्या साथ-साथ

मौनी अमावस्या २१ जनवरी को होगी। इस दिन मौन रहते हुए स्नान-दान का महत्व है। प्रयागराज की त्रिवेणी में स्नान का विशेष पुण्य है। वाराणसी में भी गंगा स्नान का खास महत्व है। इसी दिन शनि अमावस्या है, जिन लोगों को शनि की साढ़े साती, शनि की ढैय्या या शनि की महादशा और अंतर्दशा के कारण कष्ट हो रहा हो, उन्हें शनि का जाप करना या करवाना या दान करना चाहिए।

Read more...

Kharmas 2022: 16 दिसंबर से लग रहा खरमास, सभी मांगलिक कार्यों पर रोक

खरमास (Kharmas 2022) के समय एकादशी व्रत जरूर रखें, इससे धन और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है व आर्थिक समस्या दूर होती हैं।खरमास में एकादशी व्रत १९ दिसंबर २०२२ और दो जनवरी २०२३ को पडेगी। खरमास में प्रतिदिन माता लक्ष्मी की उपासना करने और लक्ष्मी स्तोत्र पाठ करने से विशेष लाभ प्राप्त होता है। पीपल के वृक्ष की पूजा का भी विशेष महत्व है।

Read more...

Dream interpretation: कुछ खास सपने…जानते हैं कुछ खास स्वप्न फल के बारे में

Dream interpretation: भगवान के दर्शन- यदि आप सपने में स्वयं को भगवान श्री गणेश के दर्शन करते हुए देखते हैं तो स्वप्न शास्त्र के अनुसार यह बहुत ही शुभफल देने वाला स्वप्न है, जिसका अर्थ बहुत जल्द ही आपको गुड न्यूज मिलने वाली है तथा घर में किसी मांगलिक कार्य के होने की संभावना है।

Read more...

Puja Alert-दीपक जलाते समय भूलकर भी ना करें ये गलतियां- बत्ती लगानी चाहिए लम्बी या गोल ?

Puja Alert-दीपक जलाने से होने वाले लाभ को दोगुना करने के लिए दिनों के अनुसार दीपक जलाएं। यदि आप शनि देव को प्रसन्न करना चाहते हैं तो सरसों के तेल का दीया जलाएं, वहीं दुर्गा जी को प्रसन्न करने के लिए घी का दीपक जलाएं। जबकि अन्य देवी-देवताओं को प्रसन्न करने के तिल के तेल का प्रयोग करें।

Read more...