शिव शब्द, शिव अर्थ, शिव ही परमार्थ है….

शिव उठत, शिव चलत, शिव शाम-भोर है !
शिव बुध्दि, शिव चित, शिव मन विभोर है !!

शिव रात्रि, शिव दिवस, शिव स्वप्न शयन है !
शिव काल, शिव कला, शिव मास-अयन है !!

शिव शब्द, शिव अर्थ, शिव ही परमार्थ है !
शिव कर्म, शिव भाग्य, शिव पुरूषार्थ है !!

शिव स्नेह, शिव राग, शिव ही अनुराग है !
शिव कली, शिव कुसुम, शिव ही पराग है !!

शिव भोग, शिव त्याग, शिव तत्व ज्ञान है !
शिव भक्ति, शिव प्रेम, शिव ही विज्ञान है !!

शिव स्वर्ग, शिव मोक्ष, शिव परम साध्य है !
शिव जीव, शिव बह्मा, शिव ही आराध्य है !!

आप और आपके परिवार के लिए श्रावण शुभ हो।

 

 

Omp News 1 |

रचनाकार:

मूलतः शांत स्वभाव के दिखने वाले डॉ0 ओम प्रकाश गुप्ता (सम्पर्क: 9907192095)  एक प्रखर राष्ट्रवादी ,विद्रोही रचनाकार लेखक एवं समाज सेवक है जो समसामयिक विषयों पर अपनी तल्ख रचनाओं एवं टिप्पणियों के लिए जाने जाते हैं| 

 

डॉ0 ओम प्रकाश गुप्ता

मूलतः शांत स्वभाव के दिखने वाले डॉ0 ओम प्रकाश गुप्ता (सम्पर्क: 9907192095)  एक प्रखर राष्ट्रवादी ,विद्रोही रचनाकार लेखक एवं समाज सेवक है जो समसामयिक विषयों पर अपनी तल्ख रचनाओं एवं टिप्पणियों के लिए जाने जाते हैं| 

    डॉ0 ओम प्रकाश गुप्ता has 12 posts and counting. See all posts by डॉ0 ओम प्रकाश गुप्ता

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.

    four × 3 =