वैश्विक

Yatindra Siddaramaiah का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल

सिद्धरमैया के बेटे Yatindra Siddaramaiah गुरुवार को विवादों में घिर गए, जब उनका एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. इस वीडियो में वह फोन पर कुछ निर्देश जारी करते नजर आ रहे हैं. इसके बाद कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और जनता दल (सेक्युलर) के नेता एचडी कुमारस्वामी ने भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री सिद्धरमैया पर निशाना साधा. उन्होंने आरोप लगाया कि यह बातचीत सरकारी कर्मचारियों के तबादले से संबंधित थी.

समाचार एजेंसी भाषा की एक रिपोर्ट के अनुसार, मुख्यमंत्री सिद्धरमैया, उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार और सत्तारूढ़ पार्टी के अन्य नेताओं ने कहा कि फोन पर हुई यह बातचीत कॉरपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व (सीएसआर) कोष का इस्तेमाल करके चार से पांच स्कूलों के विकास के संबंध में थी. सिद्धरमैया ने कहा कि अगर कोई एक भी ऐसा उदाहरण सबूत के साथ पेश कर दे कि उन्होंने अधिकारियों का तबादला करके पैसा कमाया है, तो वह राजनीति से संन्यास ले लेंगे.

वीडियो में Yatindra Siddaramaiah को अपने पिता से किन्हीं विवेकानंद के बारे में बात करते सुना जा सकता है और वह किसी तरह के लेन-देन का जिक्र कर रहे हैं. कुमारस्वामी के मुताबिक,Yatindra Siddaramaiah ने मुख्यमंत्री के विशेष कार्य अधिकारी (ओएसडी) नियुक्त किए गए आर महादेव से बात की. पूरे मामले की जांच की मांग करते हुए, जेडीएस के प्रदेश अध्यक्ष ने जानना चाहा कि यतींद्र किस सूची के बारे में बात कर रहे थे और बातचीत में जिन विवेकानंद का जिक्र हुआ, वह कौन हैं. कुमारस्वामी ने सिद्धरमैया से सवाल किया कि आपने उन्हें (यतींद्र को) क्यों कॉल किया और वह कौन सी सूची है? उनकी (मुख्यमंत्री) क्या भूमिका है? क्या उनका काम अपने बेटे को फोन करना और उनसे पूछना है कि उन्हें (मुख्यमंत्री) क्या करना है?

भाजपा ने भी मुख्यमंत्री और उनके बेटे Yatindra Siddaramaiah पर हमला किया. भाजपा ने सोशल मीडिया पर पोस्ट किया कि यह ‘मुख्यमंत्री’ (यतींद्र) असली मुख्यमंत्री से अधिक शक्तिशाली हैं. पूर्व विधायक यतींद्र ने मुख्यमंत्री सिद्धरमैया को आदेश दिया कि उन्हें केवल वही करना चाहिए, जो ‘मैंने उन्हें दिया है’ और उससे अधिक नहीं. भाजपा ने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री सिद्धरमैया केवल नाममात्र के लिए पद पर हैं और सारी शक्ति उनके बेटे यतींद्र के पास है. विपक्षी दल ने टिप्पणी की कि राज्य में मुख्यमंत्री का पद खाली है.

पत्रकारों से बात करते हुए मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने स्पष्ट किया कि फोन पर हुई बातचीत सीएसआर कोष से बनाए जा रहे स्कूल भवनों से संबंधित थी. उन्होंने दावा किया कि समाज कल्याण मंत्री एचसी महादेवप्पा ने सूची दी थी. वहीं, कांग्रेस की कर्नाटक इकाई के अध्यक्ष शिवकुमार ने भी कहा कि बातचीत सीएसआर कोष के जरिये स्कूल विकास से संबंधित थी. उन्होंने कहा कि कर्नाटक विकास कार्यक्रम के सदस्य और आश्रय समिति के अध्यक्ष होने के नाते यतींद्र अपने द्वारा चुने गए स्कूलों में बेंच और अन्य फर्नीचर उपलब्ध कराने के लिए सीएसआर कोष के उपयोग के बारे में बात कर रहे थे.

News Desk

निष्पक्ष NEWS.जो मुख्यतः मेन स्ट्रीम MEDIA का हिस्सा नहीं बन पाती हैं।

News Desk has 14030 posts and counting. See all posts by News Desk

Avatar Of News Desk

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × 5 =