बीजेपी रॉय परिवार के लगातार बदलते तेवरों से भी असहज: PM मोदी का मुकुल रॉय को फोन

 मुकुल रॉय के वापस टीएमसी की तरफ जाने की खबरें जब चारों तरफ सुर्खियां बनने लगीं तो पीएम मोदी ने खुद कदम उठाया। उन्होंने गुरुवार को मुकुल को फोन कर उनकी पत्नी का हाल लिया।हालांकि, बीजेपी की तरफ से इसे महज औपचारिक कॉल बताया जा रहा है लेकिन सूत्रों की माने तो दरअसल पीएम उन खबरों से आहत थे जो मुकुल की टीएमसी में वापसी का इशारा कर रही हैं। इसी वजह से उन्होंने खुद मुकुल को मनाने का बीड़ा उठाया। फोन पर दोनों के बीच क्या बात हुई इसका ब्योरा उपलपब्ध नहीं हो सका

लेकिन माना जा रहा है कि पीएम की कॉल मुकुल को यह बताने के लिए काफी है कि वो खुद उनके साथ खड़े हैं। सूत्रों का कहना है कि मुकुल अगर टीएमसी में वापसी करते हैं तो कोई ज्यादा बड़ी बात नहीं लेकिन अगर ये चीज शगल बन गई तो बीजेपी का कुनबा बिखरना शुरू हे जाएगा। सूत्रों का कहना है कि पीएम का फोन कोई असामान्य चीज नहीं लेकिन बुधवार शाम ही ममता के भतीजे मुकुल से मिलकर आए थे।

बीजेपी रॉय परिवार के लगातार बदलते तेवरों से भी असहज हो रही है। मुकुल के बेटे सुभ्रांग्शू ने हाल ही में ट्वीट किया था कि जनादेश पाकर सत्ता में आई सरकार की आलोचना करने से पहले लोगों को आत्म अवलोकन करना चाहिए। ऐसा माना जा रहा है कि यह पोस्ट बीजेपी पर निशाना था। उनकी नसीहत बीजेपी को रास नहीं आई।

 

मुकुल रॉय की पत्नी कृष्ण कोरोना वायरस से संक्रमित हैं और एक प्राइवेट अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है। मुकुल रॉय के बेटे सुभ्रांग्शु ने एक न्यूज एजेंसी को बताया कि पीएम मोदी ने गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी के उपाध्यक्ष मुकुल रॉय को फोन करके उनकी बीमार पत्नी का हालचाल पूछा। उनका कहना है कि सुबह साढ़े दस बजे फोन पर पीएम ने उनके पिता से बात की। हालांकि, बातचीत का ज्यादा ब्योरा देने से वो बचते दिखे। उन्होंने केवल इतना ही कहा कि मां की बीमारी की खबर सुनने के बाद ही पीएम ने फोन किया था।

एक दिन पहले तृणमूल कांग्रेस सांसद और बंगाल की सीएम ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने बुधवार की शाम को अस्पताल जाकर मुकुल रॉय की पत्नी का हालचाल लिया था। उनके वहां जाते ही सियासी हलचल तेज हो गई। कुछ ही घंटे बाद बंगाल बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष भी रॉय की पत्नी कृष्णा रॉय की सेहत की जानकारी लेने अस्पताल गए। मुकुल रॉय कोरोना से संक्रमित होकर घर में आइसोलेशन में हैं।

 

गौरतलब है कि साल 2017 में जब मुकुल रॉय टीएमसी छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए थे। उस समय वह ममता बनर्जी की कोर टीम का हिस्सा थे। 2019 के लोकसभा चुनाव में पश्चिम बंगाल में बीजेपी को वहां की 42 सीटों में से 18 सीटों पर जीत मिली थी। यह उस समय राज्य की सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस के लिए बड़ा झटका था। इसका बड़ा श्रेय बीजेपी ने मुकुल रॉय के दबदबे को दिया था।

 

News Desk

निष्पक्ष NEWS,जो मुख्यतः मेन स्ट्रीम MEDIA का हिस्सा नहीं बन पाती हैं।

News Desk has 6033 posts and counting. See all posts by News Desk

Avatar Of News Desk

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fourteen + 14 =