माना कि वो मोहब्बत का एक आबसार था…

मोहब्बत : तोड़ दिया था उसने एक पल में ताल्लुक “दीप”, पर मुझे आज भी , उसके जैसा होना नहीं आया ।।

Read more...

अपनी कलम से -पैग़ाम ए मुल्क

सभी देशवासियों को अग्रिम शुभकामनाएं देता हूं तथा मै उन सभी पुण्यात्माओं के सामने नतमस्तक हूं जिन्होंने आजादी के हवनकुंड में अपने प्राणों की आहुति देकर, उस यज्ञ को सफल बनाया ।

Read more...