कांग्रेस राष्ट्रीय मुख्य संगठक पद के लिए दौड में इं. जसबीर सिंह बजाज का नाम

सहारनपुर।(पत्रकार नाजिया नाज द्वारा)। संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की चेयरमैन ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष पद का पदभार सम्भालते ही अखिल भारतीय कांग्रेस एवं उसके सभी अनुसांगिक संगठनों पर राष्ट्रीय एवं प्रांतीय स्तर के पदों पर पिछले कुछ दिनों में नामित किये गये निष्क्रिय एवं संगठन को अपने कार्यकाल में मजबूत करने के बजाये कमजोर करने वाले पदाधिकारियों की छुट्टी करने का पूरा मन बना लिया है। इस क्रम में सबसे पहले पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गाध्ंाी ने कांग्रेस पार्टी की रीढ़ माने जाने वाले भारतीय कांग्रेस सेवादल के राष्ट्रीय मुख्य संगठक पद से लालजी देसाई की बिदाई लगभग तय कर दी है।

पार्टी से जुडे सूत्रों का कहना है कि गुजरात निवासी लालजी देसाई की नियुक्ति उक्त अहम पद पर कांग्रेस के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष अहमद पटेल की संस्तुति पर की गयी थी, परन्तु अपने डेढ साल के कार्यकाल में लालजी देसाई ने भारतीय कांग्रेस सेवादल से राष्ट्रीय एवं प्रांतीय प्रशिक्षण प्राप्त मुख्य पदाधिकारियों को एक-एक कर किनारे लगाने का काम जिस प्रकार से शुरू किया उसी के नतीजतन आज भारतीय कांग्रेस सेवादल कांग्रेस के लिए संजीवनी बुटी की बजाये धतूरे का फल साबित हो रहा है।

कांग्रेस सेवादल समेत एआईसीसी के प्रमुख पदाधिकारियों में सोनिया गांधी शीघ्र करेगी फेरबदल

सूत्रों का कहना है कि लालजी देसाई के राष्ट्रीय मुख्य संगठक पद से हटाये जाने की स्थिति में अहमद पटेल, पूर्व विधायक चंद्र प्रकाश वाजपेयी को सेवादल का राष्ट्रीय मुख्य संगठक बनाने की रणनीति पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष मोतीलाल बोहरा के माध्यम से करने में लगे है, परन्तु मोतीलाल बोहरा के माध्यम से सुझाए गये चंद्र प्रकाश वाजपेयी के नाम को लेकर पार्टी की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने जब उनकी कुण्डली खंगाली तो उसमें इनके ऊपर पार्टी विरोधी कार्य करने के कई आरोप उभर कर सामने आये।

उधर पिछले काफी दिनों से भारतीय कांग्रेस सेवादल के राष्ट्रीय मुख्य संगठक पद पर किसी प्रभावशाली सिख नेता की नियुक्ति किये जाने की मांग तेजी से उठती मांग को गम्भीरता से लेते हुए श्रीमति सोनिया गांधी ने राष्ट्रीय मुख्य संगठक के रूप में सिख नेता की जिस प्रकार से अपनी विश्वसनीय एवं सेवादल व निष्ठावान लोगों से जो विचार विमर्श किया है उसमें स्वतंत्रता संग्राम सेनानी परिवार में जन्मे सरदार जसबीर सिंह बजाज का नाम मुख्य रूप से उभर कर आ रहा है। सरदार जसबीर सिंह बजाज के पिता स्वर्गीय सरदार सावन सिंह बजाज एक प्रतिष्ठित लेखक एवं शिक्षाविद्ध होने के साथ ही स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे। इंजीनियरिंग में उच्च शिक्षा प्राप्त सरदार जसबीर सिंह बजाज ने अपने पिताश्री के सिद्धांतों को स्वयं के जीवन में उतारते हुए अपनी राजनीतिक पारी की शुरूआत भारतीय राष्ट्रीय कांगे्रस पार्टी से ही की। सरदार जसबीर सिंह बजाज जनपद सहारनपुर में लगातार लगभग 18 सालों तक कांग्रेस सेवादल के जिला मुख्य संगठक रहे तथा इनके कार्यकाल मेें पूरे जनपद में कांग्रेस सेवादल पूरी मजबूती के साथ पार्टी एवं जनसेवा में अकाट्य सहयोग करता रहा। श्री बजाज ने सन् 2004 में कांग्रेस पार्टी से बगैर कोई आर्थिक मदद लिए स्वयं के खर्च पर राज्य स्तरीय आठ दिवसीय प्रशिक्षण शिविर प्रतिष्ठित शिक्षण संस्था गुरूनानक इण्टर कालेज में आयोजित किया था।

सरदार जेएस बजाज बेचुलर आॅफ इंजीनियर की उच्च शिक्षा प्राप्त करने के अलावा कोलकता से बीआर्च, चार्टएड इंजीनियर की उपाधि कलकत्ता से प्राप्त के अलावा इंस्टीट्यूशन आॅफ वेल्युवर के फैलो मेम्बर होने के अलावा आईओसी पिकअप समेत देश के प्रतिष्ठित 10 बैंकों के वेल्युवर भी है। इसके अतिरिक्त सरदार बजाज एचएसआईडीसी, डारेक्टर आॅफ इंडस्ट्रीज़ के भी वेल्युवर होने के अलावा वर्तमान समय में उत्तर प्रदेश कांगे्रस सेवादल के अतिरिक्त मुख्य संगठक के रूप में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी को मजबूत बनाने के लिये पूरी लगन, निष्ठा एवं तन-मन-धन से पार्टी के लिये कार्य कर रहे है। इससे पूर्व सरदार जेएस बजाज कांग्रेस सेवादल उत्तर प्रदेश के संगठन मंत्री एवं पश्चिमी उत्तर प्रदेश के प्रभारी भी रह चुके है।

एक राजनेता होने के अलावा सरदार जेएस बजाज प्रतिष्ठित पत्रकार भी है तथा प्रिंट एण्ड इलैक्ट्रोनिक्स जर्नालिस्ट एसोसिएशन के वर्तमान समय में राष्ट्रीय सचिव होने के अलावा आर्किटैक्ट्स एण्ड इंजीनियर्स एसोसिएशन के पिछले 20 सालों से निरविरोध अध्यक्ष भी चले आ रहे है।दिल्ली की पूर्व मुख्य मंत्री एवं कांग्रेस की संकट मोचन माने वाले स्व. शीला दीक्षित, राजस्थान के मौजूदा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, उत्तराखण्ड विधान सभा के पूर्व अध्यक्ष गोविंद सिंह कुंजवाल एवं भारतीय कांग्रेस सेवादल व गांधी नेहरू परिवार के प्रति पूर्ण रूप से निष्ठावान उत्तर प्रदेश कांग्रेस सेवादल के पूर्व मुख्य संगठक प्रहलाद प्रसाद द्विवेदी के काफी नजदीकी नेताओं में गिने जाते है। ऐसे में अगर पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष श्रीमति सोनिया गांधी प्रहलाद प्रसाद द्विवेदी को पार्टी में राष्ट्रीय महासचिव के साथ कांग्रेस सेवादल का प्रभारी एवं सरदार जेएस बजाज को राष्ट्रीय मुख्य संगठक के पद पर नामित करती है तो इससे न केवल उत्तर प्रदेश बल्कि हरियाणा, पंजाब, उत्तराखण्ड, मध्यप्रदेश व राजस्थान के अलावा देश के कई अन्य राज्यों में बसे सिख समाज मंे कांग्रेस पार्टी के प्रति विश्वास बढेगा साथ ही इससे भारतीय कांग्रेस सेवादल भी मजबूत होगा।

News Desk

निष्पक्ष NEWS.जो मुख्यतः मेन स्ट्रीम MEDIA का हिस्सा नहीं बन पाती हैं।

News Desk has 6985 posts and counting. See all posts by News Desk

Avatar Of News Desk