Ayurvedic Amritdhara: 100 रोगों की 1 दिव्य औषधि अमृतधारा: Benefits, सेवन विधि

Ayurvedic Amritdharaअमृत धारा आयुर्वेद (Ayurvedic Amritdhara) की एक बहुत ही जानी – मानी औषधि है जो कई बीमारियों को आसानी से उपचार कर देती है । बदलते मौसम , गर्मी की तपन , लु , धूल भरी हवाओं , खान – पान में गड़बड़ी के कारण सिरदर्द , उल्टी , अपच , हैजा , दस्त , बुखार , शरीर में दर्द , अजीर्ण जैसे रोग घेर लेते हैं ।

ऐसे में आयुर्वेदिक औषधि अमृतधारा (Ayurvedic Amritdhara) इन रोगों में रामबाण की तरह सहायक हो सकती है । इस दवा की दो – चार बूढे एक कप सादे पानी में डालकर पीने मात्र से ही तुरन्त लाभ मिलता है ।

सिरदर्द हो , जहरीला ततैया काट ले तो इसे लगाते मात्र से ठीक हो जाता है । गले के दर्द व सूजन में गरारे करने पर तुरंत लाभ मिलता है । यह दवा पूरे परिवार के लिए लाभदायक है क्योंकि यह पूर्ण प्राकृतिक हैं ।

अमृतधारा (Ayurvedic Amritdhara) बनाने की विधि :

पुदीना सत् अजवायन सत व भीमसेनी कपूर

तीनो को बराबर मात्रा में मिलाने से औषधि बन जाती है । ये तीनों किसी भी आयुर्वेद की दुकान से उपलब्ध हो सकते हैं । एक काँच की शीशी में तीनों को सम मात्रा में मिलाकर ठण्डे स्थान पर रखें । प्लास्टिक की शीशी में इसे कदापि न रखें ।

दूसरी विधि :

 50 ग्राम पिपरमेंट 50 ग्राम अजवाइन पाउडर + 50 ग्राम लाल इलाइची + 50 ग्राम देशी कपूर 20 मिली लीटर लौंग का तेल 20 मिली लीटर दालचीनी का तेल सारी समाग्री को मिलाकर शीशी में रखें।

अमृतधारा (Ayurvedic Amritdhara) सेवन विधि : अमृतधारा की दो तीन बून्द बडे कप पानी में डालकर योग करें

अमृतधारा (Ayurvedic Amritdhara) के फायदे :

1 – अमृतधारा (Ayurvedic Amritdhara) कई बीमारियों में दी जाती हैं , जैसे बदहजमी , हैजा और सिर – दर्द ।

2 – बदहजमी – थोड़े से पानीमें तीन – चार बूंद अमृतधारा की डालकर पिलाने से बदहजमी , पेटदर्द , दस्त , उलटी ठीक हो जाती है । चक्कर आने भी ठीक हो जाते हैं ।

3 – हैजा – एक चम्मच प्याजके रसमें दो बूंद अमृतधारा डालकर पीने से हैजा में फायदा होता है

4 . सिर दर्द – अमृतधारा (Ayurvedic Amritdhara) की दो बूंद ललाट और कान के आस – पास मसलने से सिरदर्द को फायदा होता है

5 – छाती का दर्द – मीठे तेल में अमृतधारा मिलाकर छाती पर मालिश करने से छातीका दर्द ठीक हो जाता

6 – जुकाम – इसे सूंघने से सांस खुलकर आता है तथा जुकाम ठीक हो जाता है ।

7 – मुह के छाले – थोडे से पानीमें एक – दो बूद अमृतधारा डालकर छालों पर लगानेसे फायदा होता है ।

8– दांत दर्द: अमृतधारा (Ayurvedic Amritdhara) की 2 बून्द रुई के सहारे रखने से दन्त शूल नस्ट होता है

9-खाँसी दमा क्षयरोग :- 4 5 बून्द गुनगुने पानी में सुबह शाम पीने से नस्ट होता है

10-हृदय रोग- आंवले के मुरब्बे पर 2 3 बून्द डालकर खाने से

11-पेट दर्द- बताशे पर 2 बून्द अमृतधारा डालकर खाने से उदर शूल नस्ट होता है

12- मन्दाग्नि-भोजन के बाद 2 3 बून्द सादे पानी में मिलाकर पीने से मन्दाग्नि दूर होती है

13-कमजोरी- 10 ग्राम देशी गाय के मख्खन 5 ग्राम शहद व 2 3 बून्द अमृतधारा सुबह शाम सेवन से कमजोरी दूर होती है

14-हिचकी- 2 3 बून्द सीधे जीभ पर लेने के बाद आधे घण्टे तक कुछ भी सेवन न करने से हिचकी नस्ट हो जाती है

15-खुजली-10 ग्राम निम तेल में 5 बून्द अमृतधारा मिलाकर लगाने से खुजली नस्ट हो जाती है

16 – मधुमक्खी के काटने पर – ततैया , बिच्छू, भंवरा या मधुमक्खी के काटने की जगहपर अमृतधारा मसलने से दर्द में राहत मिलती हैं ।

17 – बिवाई – दस ग्राम वैसलीनमें चार बूंद अमृतधार (Ayurvedic Amritdhara) मिलाकर , शरीर के हर तरह दर्दपर मालिश करने दर्द में फायदा होता है । फटी बिवाई और फटे होंठों पर लगानेसे दर्द ठीक हो जाता है तथा फटी चमडी जुड़ जाती है ।

18 – यकृत की वृद्धि – अमृतधारा (Ayurvedic Amritdhara) को सरसों के चौगुने तेल में मिलाकर जिगर – तिल्ली पर मालिश करने से यकृत की वृद्धि दूर होती है ।

अमृतधारा (Ayurvedic Amritdhara) के नुकसान ( दुष्प्रभाव ) :

अधिक मात्रा में लेने पर दस्त का कारण बन सकता है । -कुछ लोगों को इसके उपयोग के कारण चक्कर आ सकते है । सावधानियां पयोग करने से पहले चिकित्सक की सलाह आवश्यक है.

स्वदेशीमय भारत ही हमारा अंतिम लक्ष्य है :- भाई राजीव दीक्षित जी

Home Remedies for Backache: कमर दर्द (Back pain) से राहत पाने के घरेलू कारगर उपचार

Dr. Jyoti Gupta

डॉ ज्योति ओम प्रकाश गुप्ता प्रसिद्ध चिकित्सक एवं Health सेक्शन की वरिष्ठ संपादक है जो श्री राजीव दीक्षित जी से प्रेरित होकर प्राकृतिक घरेलू एवं होम्योपैथिक चिकित्सा को जन जन तक सहज सरल एवं सुलभ बनाने के लिए प्रयासरत है, आप चिकित्सा संबंधित किसी भी समस्या के नि:शुल्क परामर्श के लिए 9399341299, Drjyotiomprakashgupta@gmail.com पर संपर्क कर सकते है।

Dr. Jyoti Gupta has 36 posts and counting. See all posts by Dr. Jyoti Gupta

Leave a Reply

Your email address will not be published.

20 + three =