सिर्फ Bra के साथ ज्वेलरी के एड : Sabyasachi ने Sex के साथ किया मंगलसूत्र का प्रचार, Hindu सभ्यता पर कुठाराघात

Hindu कल्चर को फोकस करके एड बनाना एक फैशन बन गया है। Sabyasachi ने हाल में ही इनकी नई ज्वेलरी लांच की है और लोगों को यह बिलकुल भी पसंद नहीं आया है। इनके इस ज्वेलरी के एड में इन्होंने ज्वेलरी दिखाने के लिए कोई ट्रेडिशनल कपड़े नहीं बल्कि अंदरूनी कपड़े चुने हैं।

 इससे पहले फैब इंडिया ने भी ऐसा ही कुछ दिवाली को लेकर इनके कपड़ों का एड बनाया था जिसका जमकर विरोध किया गया था। फैब इंडिया जो कि एक कपड़ों की ब्रांड है ने भी अपना ऐसा ही एक एड बनाया दिवाली के लिए लेकिन इसका नाम इन्होंने जश्न-ए-रिवाज रख दिया।

सभी जगह हिन्दुओं को इसे देख बेहद दुःख हुआ और इसका विरोध भी किया गया। सभी जगह फैब इंडिया का बहिष्कार करने को लेकर ट्वीट किये जा रहे थे और कई लोग इनके कपड़ों के पोंछे या फिर इनका साफ़ साफ़ बहिष्कार भी कर रहे थे। इन सब को देख फैब इंडिया ने अपने इस नाम को बदलने का फैसला किया और अब यह जल्द ही नए नाम के साथ आएंगे।ब

बडी हस्तियों के सबसे पसंदीदा फैशन डिजाइनर Sabyasachi मुखर्जी इस समय सोशल मीडिया पर ट्रोल हो रहे हैं। कारण है मंगलसूत्र को सेक्स से कनेक्ट करके बेचने की कोशिश करना। उन्होंने हाल में अपना एक नया ज्वेलरी कलेक्शन लॉन्च किया और उसके बाद उसके विज्ञापन की कुछ फोटोज इंस्टाग्राम पर शेयर की।

इस ज्वेलरी के लांच में इन्होंने मंगलसूत्र भी लांच किया है और इसे इन्होंने जिस तरीके से दिखाया है उसका लोग विरोश कर रहे हैं। जैसे कि आप फोटो में देख सकते हैं कि लड़की ने सिर्फ ब्रा के साथ मंगलसूत्र पहना है और अपने पार्टनर के साथ खड़ी हुई है, काफी लोग इस एड को लेडीज़ इनवेअर का एड भी समझ रहे हैं।

फोटोज शेयर कर उन्होंने लिखा– पेश है एक रॉयल बंगाल मंगलसूत्र 1.2- बंगाल टाइगर आइकन VVS हीरे, काले गोमेद और काले तामचीनी के साथ 18 कैरेट सोने में हार, झुमके और सिग्नेट रिंग्स का कलेक्शन

अब लोगों ने उनका यह पोस्ट देखने के बाद इस ज्वेलरी कलेक्शन पर सवाल नहीं उठाया है बल्कि उन्होंने उसके साथ जो तस्वीरें शेयर की हैं उस पर अपनी नाराजगी जाहिर की है।

दरअसल इन ज्वेलरी के विज्ञापनों में जो मॉडल दिखाई पड़ रही हैं उन्होंने इंटीमेट/सेक्स सीन्स के साथ फोटोशूट करवाया हुआ है। तस्वीरों में मॉडल्स ने ब्रा के साथ मंगलसूत्र पहना है। फोटो ऐसी हैं कि यदि उनके ऊपर सब्यसाची फाइन ज्वेलरी न लिखी तो शायद ही किसी को पता चले कि दिए गए विज्ञापन मंगलसूत्र या ज्वेलरी के हैं।

अब इन्हीं विज्ञापनों को देखने के बाद सोशल मीडिया यूजर्स भड़क गए हैं। यूजर्स ने इसे भावना को ठेस पहुँचाने वाला करार दिया है। लोगों का पूछना है कि आखिर प्रचार हो किस बात का रहा है? कोई क्यों इन आभूषणों को पहनेगा, जब मालूम है कि इसे जिसने पहना वो सिर्फ गिरा हुआ लग रहा है। डिजाइनर को सलाह दी जा रही है कि वो लोग अपने अभियानों का ख्याल करें।

https://twitter.com/immortalsoulin/status/1453322750014091267?ref_src=twsrc%5Etfw

कानन शाह पूछते हैं, “सच में सब्यसाची?? तुम्हारे साथ हुआ क्या है। कौन इस तरह मंगलसूत्र बेचता है। अगर दम है तो बुर्का और ताबीज इस तरह बेचो। हिंदुओं को दुख पहुँचाना बंद करो।”

शीतल चोपड़ा पारंपरिक परिधान में तस्वीर साझा करते हुए कहती हैं, “मंगलसूत्र ऐसा दिखता है सब्यसाची। ये कोई फैशन ज्वेलरी नहीं है। यह पति और पत्नी के एक दूसरे के प्रति प्रेम और प्रतिबद्धता को दर्शाता है।”एक यूजर इस ब्रांड का बहिष्कार करने की बात करता है। वह कहता है, “ये दिखाना बंद करो कि औरत सेक्स से पहले और सेक्स के बाद कैसी लगती है।

मंगलसूत्र और कामसूत्र दोनों अलग हैं। मंगलसूत्र धार्मिक चीज है और इसे सिर्फ शादी के बाद ही पहना जाता है जबकि कामसूत्र सेक्स और वासना के बारे में है।

पत्रकार मीना दास नारायण ने अपने वेरिफाइड अकऑउंट से कहा, “सब्यसाची, बड़ी अजीब बात है कि आपको मंगलसूत्र ऐसे दिखाना पड़ा जो कि एक अश्लील और पोर्न पिक जैसी लग रही है? तुम हमेशा दूध जैसी करीना को अपने डिजाइनरवियर के लिए इस्तेमाल करते हो, तो इस बार इन्हें क्यों? कोई संदेश कि मंगलसूत्र पवित्र होता है और तुम इसका मखौल उड़ाना चाहते थे लेकिन ये नहीं चाहते थे कि ये काम करीना कपूर और आलिया भट्ट करें।”

(Courtesy: Nigam, Internet)

P.K. Tyagi

प्रमोद त्यागी (अधिवक्ता) विश्व हिंदू महासंघ के राष्ट्रीय स्तरीय समिति सदस्य हैं। त्यागी टीम समन्वय, सभी प्रकाशित समाचार सामग्री और भविष्य की संबद्धता/पंजीकरण के लिए जिम्मेदार हैं।

P.K. Tyagi has 112 posts and counting. See all posts by P.K. Tyagi

Leave a Reply

Your email address will not be published.

one × three =