उत्तर प्रदेश

सुरक्षा गार्ड और शिक्षकों के मानदेय में होगी बढ़ोतरी- CM Yogi Adityanath के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश का विकास और भलाई

उत्तर प्रदेश की CM Yogi Adityanath सरकार ने पिछले कुछ वर्षों में राज्य को प्रगति और विकास की नई ऊंचाइयों तक पहुँचाया है। मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक ने एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया, जिसमें 656 सुरक्षा गार्ड और 2130 शिक्षकों के मानदेय और भत्तों में वृद्धि की गई। यह कदम न केवल कर्मचारियों की आर्थिक स्थिति को सुधारने की दिशा में है, बल्कि यह भी दर्शाता है कि सरकार अपने कर्मचारियों की भलाई के लिए प्रतिबद्ध है।

सुरक्षा गार्ड्स और शिक्षकों का मानदेय

कैबिनेट बैठक में निर्णय लिया गया कि जो सुरक्षा गार्ड मुख्यमंत्री और राज्यपाल के यहां तैनात हैं, उन्हें अब 12,500 रुपये की जगह 22,000 रुपये का प्रोत्साहन मिलेगा। इसके साथ ही व्यावसायिक शिक्षा में विशेषज्ञों को अब 500 की जगह 750 रुपये का बढ़ा हुआ मानदेय मिलेगा, जिससे उनकी आय में भी वृद्धि होगी। हाईस्कूल के शिक्षकों का मानदेय भी 400 रुपये से बढ़ाकर 500 रुपये कर दिया गया है, जो कि शिक्षकों के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है। तदर्थ शिक्षकों को भी राहत दी गई है और अब उनका समायोजन मानदेय पर होगा।

स्पेशल इन्वेस्टमेंट रीजन और औद्योगिक विकास

उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में स्पेशल इन्वेस्टमेंट रीजन (SIR) की स्थापना की योजना बनाई है, जिसके लिए एक्ट लाया जाएगा। NIRMAN लाने वाला यूपी तीसरा राज्य होगा और यह मास्टर प्लानिंग और बदलाव प्राधिकरण स्तर पर किए जाएंगे। एनओसी भी प्राधिकरण स्तर पर दी जा सकेगी। इस योजना के तहत 2 लाख एकड़ जमीन की आवश्यकता होगी और इसके लिए विधिक जामा पहनाया जाएगा। इस योजना से राज्य में औद्योगिक विकास को नया आयाम मिलेगा और रोजगार के नए अवसर उत्पन्न होंगे।

शहरीकरण की सुविधा और बड़े लैंड बैंक

एप्पल ने तमिलनाडु में और मर्सिडीज ने महाराष्ट्र में यूनिट स्थापित की हैं क्योंकि वहाँ बड़े लैंड बैंक उपलब्ध हैं। उत्तर प्रदेश भी इसी दिशा में आगे बढ़ रहा है और शहरीकरण की सुविधा विकसित की जा रही है। बीडा का एरिया 5000 एकड़ रखा गया है, जिससे राज्य में औद्योगिक निवेश को बढ़ावा मिलेगा।

शिक्षा क्षेत्र में सुधार

एडेड स्कूलों में खाली पदों के सापेक्ष प्रवक्ता और सहायक अध्यापक रखे जा रहे हैं जबकि पद समाप्त होना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने तदर्थ शिक्षकों को हटाने के निर्देश दिए हैं। ऐसे 2254 शिक्षक हैं जिन्हें स्थाई नियुक्ति तक मानदेय पर रखा जाएगा। सहायक अध्यापकों को 25 हजार रुपये और प्रवक्ता को 30 हजार रुपये दिए जाएंगे, जिससे शिक्षा क्षेत्र में गुणवत्ता और स्थायित्व बनेगा।

रायबरेली की सीमा विस्तार का प्रस्ताव स्थगित

रायबरेली की सीमा विस्तार का प्रस्ताव फिलहाल स्थगित कर दिया गया है। यह निर्णय राज्य सरकार की विवेकशीलता और जनहित को प्राथमिकता देने की नीति को दर्शाता है।

CM Yogi Adityanath की सरकार और अच्छी शासन व्यवस्था

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने पिछले कुछ वर्षों में राज्य में सुशासन की नई मिसाल कायम की है। सरकारी नीतियों और कार्यक्रमों ने राज्य के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा, और औद्योगिक विकास के क्षेत्र में उठाए गए कदम राज्य को प्रगति की राह पर ले जा रहे हैं।

CM Yogi Adityanath के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य के सर्वांगीण विकास के लिए अनेक महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं। चाहे वह सुरक्षा गार्ड्स और शिक्षकों का मानदेय बढ़ाने का निर्णय हो या स्पेशल इन्वेस्टमेंट रीजन की स्थापना की योजना, सरकार ने हर क्षेत्र में प्रगति के लिए ठोस कदम उठाए हैं। हालांकि, गोपनीय बैठकों की पारदर्शिता की कमी एक महत्वपूर्ण मुद्दा है, जिसे दूर करने की आवश्यकता है। इस दिशा में ठोस कदम उठाकर ही राज्य की विकास यात्रा को और अधिक सुगम और सफल बनाया जा सकता है।

Dr. S.K. Agarwal

डॉ. एस.के. अग्रवाल न्यूज नेटवर्क के मैनेजिंग एडिटर हैं। वह मीडिया योजना, समाचार प्रचार और समन्वय सहित समग्र प्रबंधन के लिए जिम्मेदार है। उन्हें मीडिया, पत्रकारिता और इवेंट-मीडिया प्रबंधन के क्षेत्र में लगभग 3.5 दशकों से अधिक का व्यापक अनुभव है। वह राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई प्रतिष्ठित समाचार पत्रों, चैनलों और पत्रिकाओं से जुड़े हुए हैं। संपर्क ई.मेल- [email protected]

Dr. S.K. Agarwal has 307 posts and counting. See all posts by Dr. S.K. Agarwal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen − 4 =