आज कहीं खो जाने को-जी चाहता है

“जी चाहता है”

आज कहीं खो जाने को “जी चाहता है|”

किसी पेड़ की छांव तले सो जाने को “जी चाहता है|”

जैसे नाचे मोर जंगल में,

देख घटाएं काली ,

सावन की पावन ऋतु में ,

भीग जाने को “जी चाहता है|”

रीझे थे कभी श्याम राधा पे ,

मिले यमुना के तीरे,

बंसी की फिर उसी धुन पे,

रम जाने को “जी चाहता है|”

कूके कोयल आज कदंब पे,

मौसम हुआ सुहाना,

उनकी झील सी आंखों में अब,

डूब जाने को “जी चाहता है|”

प्रेम ‘प्रकाश’ में अलौकिक,

यह मन मेरा हुआ प्रकाशित,

हुआ नहीं ऐसा पहले कभी,

खो गया है मन मेरा,

देखते ही उन्हें, उन्हीं का,

हो जाने को “जी चाहता है|”

रचनाकार-

Op News |ओम प्रकाश गुप्ता

(सम्पर्क: 9907192095)

डॉ0 ओम प्रकाश गुप्ता

मूलतः शांत स्वभाव के दिखने वाले डॉ0 ओम प्रकाश गुप्ता (सम्पर्क: 9907192095)  एक प्रखर राष्ट्रवादी ,विद्रोही रचनाकार लेखक एवं समाज सेवक है जो समसामयिक विषयों पर अपनी तल्ख रचनाओं एवं टिप्पणियों के लिए जाने जाते हैं| 

    डॉ0 ओम प्रकाश गुप्ता has 12 posts and counting. See all posts by डॉ0 ओम प्रकाश गुप्ता

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.

    2 × four =