अपनी कलम से..

दर्द क्या होता है , तुम्हे बताएंगे किसी रोज,
दर्द भरी एक ग़ज़ल, तुमको सुनाएंगे किसी रोज,
..
थी उनकी ये जिद, कि मै जाकर मनाऊं उनको,
हमे वहम ये था, कि वो बुलाएंगे किसी रोज..

उड़ने दो परिंदो को आजाद फिजाओं में,
तुम्हारे होंगे अगर, तो लौट आयेंगे किसी रोज,

उनकी जुदाई से , क्या गुजरेगी इस दिल पर,
सोचा था ये बात , उनको समझाएंगे किसी रोज,

उनको यकीं है, मै मोहब्बत में जान नहीं दूंगा,
मुझे बस ये डर है कि वो पछताएंगे किसी रोज,

हसरतें इस दिल की ,यहां कभी पूरी नहीं होंगी,
इस दुनिया से बहुत दूर,चले जाएंगे किसी रोज,

लोगो से सुना है , कि इबादत से दुआ कुबूल होगी,
चलो हम अपने खुदा को, आजमाएंगे किसी रोज …

 

Tiwari Abhi News |

Deepanshu Saini |इं0 दीपांशु सैनी (सहारनपुर, उत्तर प्रदेश) उभरते हुए कवि और लेखक हैं। जीवन के यथार्थ को परिलक्षित करती उनकी रचनाएँ अत्यन्त सराही जा रही हैं।

दीपांशु सैनी

इं0 दीपांशु सैनी (सहारनपुर, उत्तर प्रदेश) उभरते हुए कवि और लेखक हैं। जीवन के यथार्थ को परिलक्षित करती उनकी रचनाएँ अत्यन्त सराही जा रही हैं। (सम्पर्क: 7409570957)

दीपांशु सैनी has 12 posts and counting. See all posts by दीपांशु सैनी

3 thoughts on “अपनी कलम से..

  • Avatar Of Uday Chaudhary

    Vaah kya baat h

    Congratulations

    Reply
  • Avatar Of Uday Chaudhary

    Wt a reality thought?

    Congratulations

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ten + twenty =