Muzaffarnagar: दिए थे 67 लाख, टिकट न मिलने पर फूट-फूटकर रोए बसपा नेता अरशद राणा, Watch

Muzaffarnagar: चरथावल सीट से टिकट कटने पर बसपा नेता अरशद राणा शहर कोतवाली में फूट-फूटकर रो पड़े। आरोप लगाया कि पार्टी के एक वरिष्ठ नेता को दो साल पहले टिकट के लिए 67 लाख रुपए दिए थे। लेकिन उन्हे विश्वास में लिए बगैर उनका टिकट काट दिया गया। उनके रुपए भी वापस नहीं किए गए। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि उन्हें इंसाफ नहीं मिला तो वह आत्मदाह करेंगे।

जिला पंचायत सदस्य पद पर पत्नी को लड़ाया था चुनाव

चरथावल Muzaffarnagar विधानसभा क्षेत्र के गांव दधेड़ु निवासी अरशद राणा काफी दिनों से बसपा में सक्रिय हैं। जिला पंचायत सदस्य पद पर उनकी पत्नी ने बसपा के सिंबल पर चुनाव भी लड़ा था। अरशद राणा गौड़ काफी दिनों से बसपा से चरथावल सीट से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे थे।

एक दिन पहले ही बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्वीट कर जानकारी दी कि चरथावल विधानसभा सीट से पार्टी ने सलमान सईद को प्रत्याशी बनाया है। सलमान सईद प्रदेश के पूर्व गृह राज्यमंत्री सईदुज्जमां के बेटे और कांग्रेस नेता हैं।

 पूर्व मंत्री के बेटे को टिकट, कानूनी कार्रवाई करने की मांग

सलमान सईद को चरथावल (Muzaffarnagar) से बसपा का टिकट दिए जाने की घोषणा से आहत अरशद राणा (Arshad Rana) ने पहले फेसबुक पर अपनी व्यथा लिखी। इसमें उन्होंने टिकट न मिलने से आहत होने की बात कहते बसपा नेताओं पर गंभीर आरोप लगाए। साथ ही आत्मदाह करने तक की धमकी तक दी।

अरशद राणा यहीं नहीं रुके और अपने समर्थकों के साथ शहर कोतवाली जा पहुंचे। शहर कोतवाली में उन्होंने तहरीर देकर आरोप लगाया कि एक वरिष्ठ बसपा नेता चरथावल सीट से पार्टी का टिकट दिलाने के एवज में उनसे 67 लाख रुपए लिए थे। अरशद राणा ने बसपा नेता से 67 लाख रुपए वापस दिलाने और उन पर कानूनी कार्रवाई करने की मांग की।

Muzaffarnagar शहर कोतवाल का कहना

उन्होंने कहा कि पार्टी नेताओं ने उनका तमाशा बना दिया। बंद कमरे मे बैठकर उन्हें विश्वास में लेकर टिकट दूसरे को दे देते तो उन्हें इतनी तकलीफ न होती। शहर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक आनंद देव मिश्रा का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। जांच उपरांत आवश्यक कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

पार्टी में अरशद पर कोई जिम्मेदारी नहीं- Muzaffarnagar जिलाध्यक्ष सतीश रवी

 पूरे मामले में Muzaffarnagar बसपा जिलाध्यक्ष सतीश रवी का कहना है कि अरशद राणा का क्या मामला है उन्हें नहीं मालूम। उन्होंने कहा कि अरशद राणा पार्टी में हैं या नहीं यह भी साफ नहीं है। उन पर पार्टी संगठन की और से कोई जिम्मेदारी भी नहीं है। ऐसे में इस पूरे मामले पर उनको कुछ भी नहीं पता है।

टिकट मांगने पर 50 लाख रुपए और मांगे

चरथावल (Muzaffarnagar) सीट से टिकट न मिलने से आहत बसपा नेता अरशद राणा ने कोतवाली में दी तहरीर में कहा कि 2018 में विधानसभा प्रभारी नियुक्त होने थे। उस समय उन्हें पार्टी प्रत्याशी बनाए जाने की बात कहते हुए कुछ रुपए देने की बात कही। अलग-अलग समय में उससे 4.5 लाख, 50 हजार, 15-15 लाख तीन बार लिए गए। इसके बाद एक बार में ही 17 लाख रुपए लिए गए।

आरोप है कि उन्हें शमशुद्दीन राईन ने दो बार बसपा सुप्रीमो से लखनऊ और दिल्ली में मिलवाया। चुनाव घोषित होने के बाद उन्होंने टिकट की मांग की तो 50 लाख और मांगे गए। बावजूद न तो टिकट दिया गया और न ही रुपए वापस किए गए।

१८ दिसंबर २०१८ को जिला कार्यालय बसपा मुजफ्फरनगर पर जनपद के विधानसभा सीटों पर प्रभारी नियुक्त होने थे इससे एक-दो दिन पूर्व ही बसपा के पश्चिमी उत्तर प्रदेश प्रभारी शमशुद्दीन राईन ने उससे कहा कि तुम्हे चरथावल विधानसभा सीट पर प्रत्याशी नियुक्त करेंगे । इसके लिए तुम्हे कुछ रूपये देने होंगे

जिसके लिए वह तैयार हो गया था. अरसद राणा का आरोप है कि उक्त तिथि को उसे पार्टी कार्यालय पर सहारनपुर मंडल के मुख्य कॉर्डिनेटर नरेश गौतम व पूर्व मंत्री प्रेमचंद गौतम व सत्यप्रकाश कॉर्डिनेटर एवं तत्कालीन जिलाध्यक्ष मुजफ्फरनगर सतपाल कटारिया आदि की मौजूदगी में बसपा पार्टी के मंच पर वर्ष २०२२ का विधानसभा चुनाव लडाने के लिए प्रत्याशी घोषित कर दिया गया था और पूरा-पूरा आश्वासन दिया गया था कि आप क्षेत्र में जाकर अपना कार्य करो और उसे विधानसभा क्षेत्र का प्रत्याशी नियुक्त करने के लिए उससे ४ लाख ५० हजार रूपये फिर ५० हजार रूपये और फिर १५ – १५ लाख रूपये ३ किस्तो में लिये गए तथा इसके बाद भी थोडे-थोडे करके १७ लाख रूपये उससे पश्चिमी उत्तर प्रदेश प्रभारी शमशुद्दीन राईन ने सतपाल कटारिया पूर्व जिलाध्यक्ष मुजफ्फरनगर व नरेश गौतम, सहजाद पुत्र महेजर निवासी देवबंद जिला सहारनपुर व जहांगीर पुत्र महेजर निवासी सरवट जनपद मुजफ्फरनगर की मौजूदगी में लिये गये।

यहां उसे पूरा-पूरा विश्वास दिलाया गया कि तुम्हे ही चरथावल विधानसभा सीट पर प्रत्याशी नियुक्त किया गया है और आप जी-जान से मेहनत में जुट जाओ फिर भी उसने पश्चिमी उत्तर प्रदेश प्रभारी शमशुद्दीन राईन एवं बसपा के उक्त पदाधिकारियों को कहा कि मेरा टिकट कटता है तो उस स्थिति में मेरे रूपयों का क्या होगा तो शमशुद्दीन राईन ने कहा कि ऐसा नहीं होगा अगर ऐसा हुआ तो आपका पैसा वापस कर दिया जायेगा जब तक आपका टिकट नहीं हो जाता तब तक यह आपका पैसा हमारे पास अमानत के तौर पर है 

शमशुद्दीन राईन ने बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुश्री मायावती से एक बार लखनऊ व एक बार दिल्ली में मुलाकात करायी अब चुनाव की तारीख घोषित होने पर उसने बसपा जिलाध्यक्ष सतीश कुमार से चरथावल विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लडने हेतू पार्टी से टिकट मांगा तो उन्होंने कहा कि तुम्हे ओर ५० लाख रूपये की व्यवस्था करनी पड़ेगी जिसकी उसने देने की हां भर दी थी इसी तरह  बसपा के नेताओं ने टिकट के नाम पर उससे लगभग ६७ लांख रुपये हड़प लिए और उसके बावजूद भी बसपा की ओर से चरथावल विधानसभा पर सलमान सईद को प्रत्याशी घोषित कर दिया गया

अब शमसुद्दीन राइन उनका फोन नहीं उठा रहा है अब बसपा से टिकट होने के बाद अरशद राणा अपने पैसों की मांग कर बसपा नेताओं के चक्कर लगा रहा है उचित आश्वासन न मिलने पर अरशद राणा ने बसपा नेता समसुद्दीन राइन के खिलाफ नगर कोतवाली में तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कराने की मांग की है ।

तहरीर देने के बाद बसपा नेता थाने में कोतवाल के सामने ही फूट-फूट कर रोने लगा इंस्पेक्टर आनंद देव मिश्रा ने बसपा नेता अरशद राणा को मामले की जांच कर कार्यवाही करने का आश्वासन दिया है मीडिया से बातचीत के दौरान अरशद राणा ने कहा कि अगर उसे इंसाफ नहीं मिला तो वह लखनऊ स्थित बसपा कार्यालय जाकर आत्महत्या कर लेगा।

News

Shyam Panwar

एस0सी0 पंवार (वरिष्ठ अधिवक्ता) टीम के निदेशक हैं, समाचार और विज्ञापन अनुभाग के लिए जिम्मेदार हैं। पंवार, सी.सी.एस. विश्वविद्यालय (मेरठ)से विज्ञान और कानून में स्नातक हैं. पंवार "पत्रकार पुरम सहकारी आवास समिति लि0" के पूर्व निदेशक हैं। उन्हें पत्रकारिता क्षेत्र में 23 से अधिक वर्षों का अनुभव है। संपर्क ई.मेल- panwar@poojanews.com

Shyam Panwar has 68 posts and counting. See all posts by Shyam Panwar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one + one =