अपनी कलम से-तेरे पास मुस्कुराकर आएंगे


हालात जो भी हो,हम तेरे पास मुस्कुराकर आएंगे,
मोहब्बत की सब हद तक हम भी, जाकर आएंगे…

कितना दर्द होता है किसी अजीज के बिछड़ने से,
ये जरा सी बात भी उस खुदा को, बताकर आएंगे…
..
तुम भी तलाशना,शायद कोई मुझसे बेहतर मिले,
हम भी इस तमाम कायनात को, ढूंढवाकर आएंगे….

दुनिया की बंदिशों में,मोहब्बत का कत्ल हुआ है,
अगली दफा ये सब बंदिशे हम,हटाकर आयेंगे…
….
तुम्हारी अब भी बसर हो जाएगी,ये हसीं जिंदगी,
हम अब अपनी इस जिंदगी को,मिटाकर आएंगे…

किसी ओर की अमानत पर हक नहीं जताते,
अपने दिल को भी ये अल्फ़ाज़,समझाकर आएंगे…

इस जन्म उनसे,मोहब्बत मुकम्मल ना होगी “दीप”
अगले जन्म उनको नसीबो में,लिखवाकर आएंगे …
,…

 

Depanshu |

रचनाकार:

इं0 दीपांशु सैनी (सहारनपुर, उत्तर प्रदेश) उभरते हुए कवि और लेखक हैं। जीवन के यथार्थ को परिलक्षित करती उनकी रचनाएँ अत्यन्त सराही जा रही हैं। (सम्पर्क: 7409570957)

दीपांशु सैनी

इं0 दीपांशु सैनी (सहारनपुर, उत्तर प्रदेश) उभरते हुए कवि और लेखक हैं। जीवन के यथार्थ को परिलक्षित करती उनकी रचनाएँ अत्यन्त सराही जा रही हैं। (सम्पर्क: 7409570957)

दीपांशु सैनी has 12 posts and counting. See all posts by दीपांशु सैनी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

fifteen − four =