दिल से

ज़रुरत क्या है?

बेवजह घर से निकलने की ज़रुरत क्या है?
मौत से आँख मिलाने की ज़रुरत क्या है?

सबको मालूम है की बाहर की हवा कातिल है,
यूँ ही कातिल से उलझने की ज़रुरत क्या है?

खुदा की बख्शी एक नियामत है ज़िंदगी उसे संभल कर रख,
कब्रिस्तान को सजाने की ज़रुरत क्या है?

खुद को बहलाने की घर में ही वजह काफी हैं ऐ साकिब,
यूँ ही गलियों में भटकने की ज़रुरत क्या है?

साकिब फारूख क्रीपक
(संकलनकर्ता जम्मू-कश्मीर का मूल निवासी है एवं वर्तमान में दीवान वी एस इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, मेरठ (उ0 प्र0) में बी0 टेक0 सिविल इंजीनियरिंग-अंतिम वर्ष का छात्र है) (सौजन्य- प्रोफेसर राजुल गर्ग, निदेशक)

News-Desk

निष्पक्ष NEWS.जो मुख्यतः मेन स्ट्रीम MEDIA का हिस्सा नहीं बन पाती हैं। हमारा लक्ष्य न्यूज़ को निष्पक्षता और सटीकता से प्रस्तुत करना है, ताकि पाठकों को विश्वासनीय और सटीक समाचार मिल सके। किसी भी मुद्दे के मामले में कृपया हमें लिखें - [email protected]

News-Desk has 15470 posts and counting. See all posts by News-Desk

Avatar Of News-Desk

2 thoughts on “ज़रुरत क्या है?

  • Excellent, what a weblog it is! This blog gives useful information to us, keep it up.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

11 + 3 =