Ayurvedic Pain Relief Oil: दर्दनिवारक लाल तेल बनाने की सरल सुलभ विधि: जोड़ों के दर्द को कहेंगे बाय-बाय

कई बार हमारे घुटनों,कमर, पीठ,नसों, और पंसलियों आदि में दर्द हो जाता है। ऐसे ही दर्द को ठीक करने के लिए बाजार में कई प्रकार के Ayurvedic तेल (Ayurvedic Pain Relief Oil) मिलते हैं जिनसे मालिश करने से दर्द ठीक हो जाता है। आज ऐसा ही तेल बनाने कि विधि आपको बताने जा रहा हूँ जो सस्ता, असान और अचूक है और घर पर आराम से बनाया जा सकता है।

अमृतधारा

सबसे पहले 40 grams पुदीना सत, 40 grams अजवायन सत और 40 grams भीमसेनी कपूर लें। साफ़ बोतल में पुदीना अजवॉयन कपूर डाल दें ढक्कन लगाकर हिला दें और रख दें। कुछ देर बाद तीनों चीजें मिलकर द्रव्य रूप में बदल जायेगी और इसे ही अमृतधारा कहते हैं।

अब 200 grams लहसुन लिजिएं और उसके छिलके उतार लें तथा लहसुन कि कलियों के छोटे छोटे बारीक टुकड़े कर लिजिएं व एक एक चम्मच सौठ मेथी अजवायन लौंग दालचीनी जायफल के चूर्ण लें, अब 1 लीटर सरसों या तिल का तेल या अरण्ड तेल कड़ाही में डालकर आंच पर गर्म होने के लिए रख दें।

जब तेल पूरी तरह से गर्म हो जाए तो तेल को निचे उतार लें तथा ठंडा होने के लिए रख दें। जब तेल पूरा ठंडा हो जाए तो उसमें लहसुन के टुकड़े डालकर उसको फिर आंच पर चढाकर तेज और मंदी आंच में गर्म कीजिए तेल को इतना पकाए कि लहसुन कि कलियाँ व चूर्ण जलकर काली हो जाए।

तेल के बर्तन को आंच पर से उतार लें तथा निचे रखे और उसमें गर्म तेल में ही 80 grams रतनजोत ( रतनजोत एक वृक्ष कि छाल होती है जिससे सभी चर्म रोग घाव फोड़े फुंसी ठीक होते हैं व किसी भी औषधि के बाहरी उपयोग से एलर्जी होने नहीं देती ) का बारीक चूर्ण डाल दें इससे तेल का रंग लाल हो जाएगा।

दर्दनाशक लाल तेल (Ayurvedic Pain Relief Oil)

तेल के ठंडा होने पर कपडे से छान लें और किसी साफ़ बोतल में भर लिजिएं। अब इस पकाए हुए तेल में अमृतधारा और 400 ml तारपीन का तेल मिलाकर अच्छी प्रकार से मिला कर हिला दें। बस मालिश के लिए दर्दनाशक लाल तेल (Ayurvedic Pain Relief Oil) तैयार हो गया जिसका सेवन आप जब चाहे कर सकते हैं।

जीवन मे किसी की या किसी को सुने या न सुने भाई राजीव दीक्षित जी के व्यख्यानों को जरूर सुने पूरे ब्रह्मांड में यही वो शख्स है स्वामी विवेकानंद के बाद जीन्होंने निःस्वार्थ भाव से ज्ञान के महासागर का अध्ययन कर पूर्ण जीवन बाटते चले गए

उपर्युक्त तेल (Ayurvedic Pain Relief Oil) नहीं बना सकते तो इसे बनाकर उपयोग करें.सरसो या तिल के 250 ग्राम तेल में 7 8 चम्मच लहसुन एक एक चम्मच अजवायन सौठ दालचीनी पीसकर इस तेल में धीमी आँच पर पकाये जलने तक व यह तेल छानकर दर्द वाले स्थान व सम्भव हो तो पूरे बदन पर इस मौसम में हल्का गुनगुना ही लगायें

घरेलू – काढ़े का सेवन करें

अर्जुन छाल सौठ हल्दी मेथी दालचीनी चोपचीनी विजयसार अजवायन सभी बराबर मात्रा सभी बराबर मात्रा में मिलाकर बारीक पाउडर कर मिक्स कर रखें व आधा या चौथाई चम्मच यह पाउडर व एक लहसुन की कली अगर आप सेवन करते हैं तो लहसुन का उपयोग जरूर करें आधे गिलास दूध या पानी मे उबालकर गुड़ घी मिलाकर पिएं घी चौथाई चम्मच व गुड़ स्वादानुसार दिन में 3 बार

सेवन से किसी प्रकार की समस्या नजर आए तो 9399341299 पर सभी तकलीफ उम्र वजन लम्बाई जीभ की फ़ोटो के साथ व्हाट्सएप सन्देश कर दें.दर्द निवारक लाल तेल प्राप्त करने के लिए संपर्क करें-डॉ ज्योति ओम प्रकाश गुप्ता 9399341299

Child care: बच्चों की खांसी दूर करने के सरल सुलभ घरेलू उपाय (Natural Remedies For Cough)

Dr. Jyoti Gupta

डॉ ज्योति ओम प्रकाश गुप्ता प्रसिद्ध चिकित्सक एवं Health सेक्शन की वरिष्ठ संपादक है जो श्री राजीव दीक्षित जी से प्रेरित होकर प्राकृतिक घरेलू एवं होम्योपैथिक चिकित्सा को जन जन तक सहज सरल एवं सुलभ बनाने के लिए प्रयासरत है, आप चिकित्सा संबंधित किसी भी समस्या के नि:शुल्क परामर्श के लिए 9399341299, Drjyotiomprakashgupta@gmail.com पर संपर्क कर सकते है।

Dr. Jyoti Gupta has 27 posts and counting. See all posts by Dr. Jyoti Gupta

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 + 14 =