मैं परेशान हूँ ..

क्यों? आज मैं इतना परेशान हूं,

देखकर दुर्दशा अपने देश की,

हो रहा क्यों मैं इतना हैरान हूं? क्यों ?आज मैं इतना परेशान हूं|

(1) मचा चारों ओर भीषण कत्लेआम ,
लुटती यहां इज्जत, अब तो सरेआम ,

आतंक का हो रहा यहां नंगा नाच, दहशत के इस दौर में,मैं क्यों बेचैन हूं ?
क्यों? आज मैं इतना परेशान हूं |

(2) सौंपा था जिनको देश,
वह देश के दलाल निकले,

दलाली इनका पेशा, इन्हें देश से क्या ?
पिस रही है जनता, इन्हें इससे क्या?

नेताओं की नियत देख ,
नहीं रह सकता अब मौन हूं|

क्यों?आज मैं इतना परेशान हूं, हो रहा इतना क्यों ?हैरान हूं|

(3) नजर लग गई ,मेरे वतन को किसी की ,
दुश्मन वो हमारा, हमें कसम इस देश की ,

मिटायें आतंक और इनके रहनुमाओं को |

फिर देख भ्रष्टाचार ,जातिवाद, क्षेत्रवाद ,जमाखोरी और घूसखोरी इनके आगे में कितना बेबस ,

और कितना कमजोर हूं|

क्यों ? आज मैं इतना परेशान हूं |

 

Tiwari Abhi News |

Omp News 1 |

रचनाकार:

मूलतः शांत स्वभाव के दिखने वाले श्री ओम प्रकाश गुप्ता (सम्पर्क: 9907192095)  एक प्रखर राष्ट्रवादी ,विद्रोही रचनाकार लेखक एवं समाज सेवक है जो समसामयिक विषयों पर अपनी तल्ख रचनाओं एवं टिप्पणियों के लिए जाने जाते हैं| 

स्वदेशी

 

डॉ0 ओम प्रकाश गुप्ता

मूलतः शांत स्वभाव के दिखने वाले डॉ0 ओम प्रकाश गुप्ता (सम्पर्क: 9907192095)  एक प्रखर राष्ट्रवादी ,विद्रोही रचनाकार लेखक एवं समाज सेवक है जो समसामयिक विषयों पर अपनी तल्ख रचनाओं एवं टिप्पणियों के लिए जाने जाते हैं| 

    डॉ0 ओम प्रकाश गुप्ता has 12 posts and counting. See all posts by डॉ0 ओम प्रकाश गुप्ता

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.

    nine − six =